Gujarati Shayri videos by Milan Watch Free

Published On : 20-Oct-2018 05:27pm

59 views

"इश्क़ का असर यूहीं नहीं उतरता "

इश्क़ का असर यूहीं नहीं उतरता,
खुदको खुदमे जलाना पड़ता हे।

तसव्वुर में बसी उनकी तस्वीर को,
बड़ी हिम्मत से मिटाना पड़ता हे।

बात होती अगर ना बात करने की,
तो फिर शायद बात कुछ और होती।

कसम दी थी, ना लौटकर आने की, फिर
इश्क़ मे हर वादे को तो निभाना पड़ता हे।

चलो खुश हूं, ये सोचकर कि वो खुश है,
कभी खुदको भी बुद्धु बनाना पड़ता हे।

फिर रात आती हे हमें अकेले तन्हा देखकर,
तनहाई मिटाने एक कश तो लेना पड़ता हे।

हसना, रोना, याद कर उसे फिर गुस्सा हो जाना,
यार, नशेमे थोड़ा पागलपन भी करना पड़ता हे।

मालूम नहीं रहता आंख कब लग जाती हे,
कहीं खुल गई तो फिर जाम भरना पड़ता हे।

लगता है इतना आसान नहीं भुला पाना,
दोस्त, मर मर के फिर भी जीना पड़ता हे।

नजर आ जाए जो वो कभी बीच राह में,
पुरानी हर यादे जेसे उछल पड़ती है खुशिमे।

क्यों पालू वहम, क्या वो भी याद करती हे,
बनकर पत्थर फिर आगे बढ़ जाना पड़ता है।

ये इश्क़ का असर हे, यूहीं नहीं उतरता,
खुदको खुदमे बेकोफ़ जलाना पड़ता हे।

मिलन लाड. वलसाड.

6 Comments

Milan 2 year ago

thanks rohit

Rohit Prajapati 2 year ago

ખુબ સરસ...

Milan 2 year ago

thank u piyusha

p 2 year ago

mast ho @milan

Milan 2 year ago

thanku thanku

Shefali 2 year ago

vah...khub saras

Related Videos

Show More